तुम्हारी बीवी उदास और ख़ामोश थी…

एक पठान ने अपने दोस्त से, “आज मैंने तुम्हारी बीवी को देखा था, वो बहुत उदास और ग़मगीन थी और ख़ामोश बैठी थी”।
.
.
.
.
.
.
.
.
.
उस के दोस्त ने ताजुब से देखा और फिर बड़े इत्मीनान से कहा, ” फिर वो मेरी बीवी नहीं होगी”