भगवद गीता, रामायण और विक्रम साराभाई

एक दिन चेन्नई में समुद्र के किनारे धोती व शाल पहने हुए एक सज्जन *भगवद गीता* पढ़ रहे थे, तभी वहां एक लड़का आया और …

Read Moreभगवद गीता, रामायण और विक्रम साराभाई

वो आँगन की भुरभुरी सी सूखी मिट्टी…

*वो आँगन की* *भुरभुरी सी सूखी मिट्टी..* *वो फर्श पर पड़ी* *धूल पे चंद पाँव के निशान..* *वो अखबार के कुछ* *फड़फड़ाते बिखरे पन्ने..* *वो …

Read Moreवो आँगन की भुरभुरी सी सूखी मिट्टी…

परिवर्तन देखिये – पहले शादियों में घर की

*परिवर्तन देखिये*   1. पहले शादियों में घर की औरतें खाना बनाती थीं और नाचने वाली बाहर से आती थीं। अब खाना बनाने वाले बाहर …

Read Moreपरिवर्तन देखिये – पहले शादियों में घर की

लाइन छोटी है,पर मतलब बहुत बड़ा है…

लाइन छोटी है,पर मतलब बहुत बड़ा है ~ उम्र भर उठाया बोझ उस कील ने … और लोग तारीफ़ तस्वीर की करते रहे .. पायल …

Read Moreलाइन छोटी है,पर मतलब बहुत बड़ा है…

इंसान की समझ सिर्फ इतनी हैं…

*बहुत खूबसूरत पंक्ती:* इंसान की समझ सिर्फ इतनी हैं, कि उसे “जानवर” कहो तो नाराज हो जाता हैं और “शेर” कहो तो खुश हो जाता …

Read Moreइंसान की समझ सिर्फ इतनी हैं…

प्यार और उधार उसी को बांटो जिनसे वापसी की उम्मीद हो…

*प्यार और उधार*    *उसी को बांटो* *जिनसे वापसी की उम्मीद हो* *दिया मिट्टी का है या सोने का,*      *यह जरूरी नहीं है;* …

Read Moreप्यार और उधार उसी को बांटो जिनसे वापसी की उम्मीद हो…

स्कूल जाने वाले सभी बच्चों के अभिभावकों से एक अपील…

*स्कूल जाने वाले सभी बच्चों के* *अभिभावकों से एक अपील* 🏻🏻 *1.शाम 8:00 बजे तक टीवी बंद कर दें! निश्चित रहें आठ बजे के बाद टीवी …

Read Moreस्कूल जाने वाले सभी बच्चों के अभिभावकों से एक अपील…

एक नारी को तब क्या करना चाहिये जब वह…

1. एक नारी को तब क्या करना चाहिये जब वह देर रात में किसी उँची इमारत की लिफ़्ट में किसी अजनबी के साथ स्वयं को …

Read Moreएक नारी को तब क्या करना चाहिये जब वह…

राजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत पुराण सुनातें हुए जब शुकदेव जी महाराज को छह दिन बीत गए…

राजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत पुराण सुनातें हुए जब शुकदेव जी महाराज को छह दिन बीत गए और तक्षक ( सर्प ) के काटने से राजा …

Read Moreराजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत पुराण सुनातें हुए जब शुकदेव जी महाराज को छह दिन बीत गए…

परिवर्तन देखिये – पहले शादियों में घर की औरतें खाना बनाती थीं और नाचने वाली बाहर से आती थीं। अब…

*परिवर्तन देखिये* 1. पहले शादियों में घर की औरतें खाना बनाती थीं और नाचने वाली बाहर से आती थीं। अब खाना बनाने वाले बाहर से …

Read Moreपरिवर्तन देखिये – पहले शादियों में घर की औरतें खाना बनाती थीं और नाचने वाली बाहर से आती थीं। अब…

कितने आश्चर्य की बात है – भारत के 29 राज्यों के नाम श्री. संत तुलसीदास जी के इक दोहे में समाई हुई है।

*कितने आश्चर्य की बात है….* *भारत के 29 राज्यों के नाम..* *श्री. संत तुलसीदास* *के इक दोहे में समाई हुई है।* *राम नाम जपते अत्रि …

Read Moreकितने आश्चर्य की बात है – भारत के 29 राज्यों के नाम श्री. संत तुलसीदास जी के इक दोहे में समाई हुई है।

कड़वी सच्चाई बोल देने वाले लोग… झूठा दिलासा देने वाले लोगो से लाख गुना अच्छे होते हैं

कड़वी सच्चाई बोल देने वाले लोग... झूठा दिलासा देने वाले लोगो से लाख गुना अच्छे होते हैं

कड़वी सच्चाई बोल देने वाले लोग… झूठा दिलासा देने वाले लोगो से लाख गुना अच्छे होते हैं